What is SIM Swap -सिम स्वैप क्या है और इससे कैसे बचें ?

What is SIM Swap -सिम स्वैप क्या है और इससे कैसे बचें ?
What is SIM Swap

What is SIM Swap -सिम स्वैप क्या है और इससे कैसे बचें ? – नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी?  मैं एक बार फिर से आप सभी का स्वागत करता हूं हमारे इस बिल्कुल नए आर्टिकल पर।  दोस्तों आज हम आपको एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर जानकारी देंगे जिसे जानना आपके लिए बहुत आवश्यक है।  आज हम इस आर्टिकल में आपको सिम स्वैप क्या है और सिम स्वैप होने से कैसे बचाएं इस बारे में बताएंगे । अगर आप भी सिम स्वैपिंग के शिकार होने से खुद को रोकना चाहते हैं तो उसके लिए आपको हमारा आर्टिकल पूरा आखिरी तक पढ़ना होगा । What is SIM Swap

आप सभी ने देखा होगा कि पिछले कुछ सालों से देश में ऑनलाइन धोखाधड़ी बहुत ज्यादा हो गई है।  अब हैकर ठगी करने के लिए ऑनलाइन माध्यम का सहारा लेते हैं।  दोस्तों यह बात बिल्कुल सही है कि देश में टेक्नोलॉजी दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही है ।What is SIM Swap  टेक्नोलॉजी से कुछ फायदे भी हैं कुछ नुकसान भी । हम सभी आजकल इंटरनेट बैंकिंग की मदद लेते हैं इंटरनेट बैंकिंग हमारे लिए लाभदायक होती है।

 लेकिन दोस्तों हमारे लिए जितनी लाभदायक होती है उतनी नुकसानदायक भी होती है क्योंकि इंटरनेट बैंकिंग से आपको बिना पता चले ही आपके लाखों रुपए निकल सकते हैं और यह सब होता है सिम स्वैपिंग के द्वारा। सिम स्वैपिंग  एक बहुत ही बड़ा फ्रॉड है आज हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे

सिम स्वैपिंग क्या है? What is SIM Swap ? 

दोस्तों सिम स्वैपिंग हैकर्स के द्वारा किया जाने वाला एक फ्रॉड है।  सिम स्वाइपिंग में हैकर आपके फोन नंबर का गलत इस्तेमाल करते हैं । सबसे पहले स्वैपिंग करने वाला व्यक्ति आपका सिम बंद करवा देगा और उससे बंद कराने के बाद वह व्यक्ति अपने नाम से सिम निकलवा लेना और उस सिम का इस्तेमाल वह इंटरनेट बैंकिंग के लिए करेगा और मात्र एक क्लिक में आपका सारा बैलेंस खत्म कर देगा। 

 सिम स्वैपिंग करने के बाद आपका नंबर दूसरे के पास अलॉट हो जाता है और आपके सभी बैंकों में जो नंबर लगा होता है उस पर वह हैकर ओटीपी भेज कर आपका अकाउंट खाली कर देता है।

सिम स्वाइपिंग कैसे की जाती हो ? 

आइए दोस्तों अब हम आपको बताते हैं कि सिम स्वैपिंग कैसे की जाती है । सिम स्वैपिंग करने के बहुत सारे तरीके हैं जिनके बारे में पता होना आपके लिए आवश्यक है , अगर आपको इनके बारे में पता नहीं होगा तो आप सिम स्वैप के शिकार हो सकते हैं आइए हम आपको सिम स्वैप के कुछ प्रमुख तरीकों के बारे में बताते हैं ।

फोन कॉल की मदद से

सबसे ज्यादा सिम स्वैप के मामले फोन कॉल से होते हैं ।  सिम स्वैपिंग करने के लिए हैकर आपके नंबर में कॉल करते हैं और आपसे कहते हैं कि आपका सिम बंद होने वाला है या कहते हैं कि आपके फोन में कोई ऑफर आया है यह सभी कहकर वो आपकी सिम की जानकारी ले लेते हैं । जैसे आप का लास्ट रिचार्ज कितने का था , सिम किसके नाम पर है । यह सभी जानकारी लेने के बाद वह आपके नंबर पर एक ओटीपी भेजते हैं और जैसे ही वह ओटीपी आप उन्हें बताते हैं आपका सिम तुरंत बंद हो जाता है और हैकर्स वह सिम अपने नाम पर चालू करा लेते हैं।

सिम स्वैपिंग क्यों की जाती है ? 

सिम स्वैपिंग करने का एकमात्र उद्देश्य ऑनलाइन फ्रॉड करना  और आपके अकाउंट का सारा बैलेंस खाली करना है।  जब आपका सिम आपके पास से बंद हो कर किसी दूसरे के पास चालू हो जाता है तो वह व्यक्ति आपके सभी एटीएम और बैंक के पासवर्ड को फॉरगेट करके नया पासवर्ड बना लेता है और आपका सारा बैलेंस खत्म कर देता है।

सिम स्वैपिंग से कैसे बचें ?

कहा जाता है कि जब कोई समस्या आती है तो उसका समाधान भी आता है । सिम स्वैपिंग के भी कई सारे समाधान है । आज हम आपको कुछ ऐसी सावधानियां बताएंगे जिन्हें अपनाकर आप अपने फोन के सिम स्वैपिंग से खुद को बचा सकते हैं।  नीचे हम आपको कुछ सावधानियां बता रहे हैं जिन्हें आपको अपनाना है।

 अपनी पर्सनल इंफॉर्मेशन किसी को शेयर ना करें

SIM swapping से बचने का एक बहुत ही अच्छा रास्ता है। आपको इस बात का बहुत ज्यादा ध्यान देना चाहिए कि आपको अपनी व्यक्तिगत पर इंफॉर्मेशन किसी से बताना नहीं चाहिए चाहे कोई भी व्यक्ति हो उसे आपको कभी भी अपना सिम किस आधार से जुड़ा है यह नहीं बताना चाहिए । सिम में कब कितने रुपए का रिचार्ज हुआ है यह भी जानकारी आपको किसी व्यक्ति को नहीं देनी चाहिए।

बैंक अकाउंट में अपने ईमेल को जरूर रजिस्टर कराएं

दोस्तों बैंक के जितने भी मैसेज आते हैं अधिकतर वह मैसेज आप के फोन नंबर पर आते हैं लेकिन दोस्तों जो हमारा सिम क्लोन हो जाता है तो हमारे फोन पर कोई भी मैसेज नहीं आ पाते हैं जिस वजह से हमें अपने अकाउंट के साथ हुई धोखाधड़ी के बारे में पता नहीं चल पाता इसीलिए आपको अपने बैंक में अपना ईमेल भी लगवाना चाहिए जिससे अगर मैसेज आपके फोन में ना आ पाए तो आप उसे ईमेल पर देख सकें।

कैसे पता करें कि हमारा सिम स्वैप हो चुका है? 

दोस्तों कभी कभी हमारा सिम स्वैप हो जाता है और हम यह नहीं जान पाते हैं कि वास्तव में हमारा सिम स्वैप हुआ है या नहीं । अगर आप समय रहते यह पता कर ले कि हमारा सिम स्वैप हो गया है तो भी आप अपने साथ होने वाली धोखाधड़ी को रोक सकते हैं ।दोस्तों जब आपका सिम स्वैप होता है तो अचानक उसमें नेटवर्क चले जाते हैं आप किसी को कॉल नहीं कर पाते हैं जब आपके साथ ऐसी कोई समस्या हो तो आप यह समझ जाएं कि आपका सिम स्वैप है।

सिम स्वैप होने पर क्या करें?

दोस्तों सिम स्वैप होने पर कुछ ऐसे सावधानी है जिनको अपनाकर आप अपने साथ होने वाले धोखाधड़ी को रोक सकते हैं इसके लिए आपको सबसे पहले अपने बैंक में संपर्क करना है और बैंक में आपको हेल्पलाइन नंबर में कॉल करके यह बताना है कि आपका सिम स्वैप हो चुका है और आपको अपने खाते को होल्ड करना चाहते हैं जब आपका खाता होल्ड हो जाएगा तो उसे कोई भी पैसे नहीं निकाल पाएगा.

जैसे ही आप को पता चले कि आपका सिम स्वैप हो चुका है तुरंत आप तो जिस कंपनी का सिम है उसके ऑपरेटर को फोन करके उन्हें बताएं कि आपका यह नंबर बंद करना है इसके लिए आपको टोल फ्री नंबर पर भी संपर्क कर सकते हैं।

Also Read :- Alternative of Cam Scanner -Bharat Scanner

 निष्कर्ष

दोस्तों यह आपके लिए एक बहुत बड़ी जानकारी थी जिसमें आज हमने आपको बताया कि सिम स्वैप क्या है और सिम स्वैप हो जाने पर क्या करना चाहिए?  हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी । इसी तरह की अन्य जानकारी पाने के लिए आप हमारे साथ बने रहिए ।बहुत धन्यवाद